HINDI KAVITA HOME

Corona ka aatank

Corona ka aatank

कोरोना ( कविता )

कोरोना कोरोना आई महामारी ,

कोरोना की मारी यह दुनिया सारी| -२

कहाँ से तू आई , कैसे तू आई |

सारे जग मैं तूने आफत मचाई |

सबको सताया तूने,

सबको रुलाया,

जाने की अब तू करले तैयारी |

कोरोना कोरोना आई महामारी ,

कोरोना की मारी यह दुनिया सारी|

मोहब्बत की दुश्मन क्यूँ तू बड़ी है ,

सबकी तू जननी बन के खडी है |

सब रिश्तों पर डाले तू खटाश है |

घर घर पर तेरी नज़र है भारी |

कोरोना कोरोना आई महामारी ,

कोरोना की मारी यह दुनिया सारी|

बहुत हुई तेरी मेहेंमानदारी,

परदेशी से प्रीत नहीं है हमारी |

वैक्सीन लगाके तुझे दूर भगायेंगे|

वापसी कर ले सीख है हमारी |

बहुत हुई तेरी मेहेमानदारी |

कोरोना कोरोना आई महामारी,

कोरोना की मारी यह दुनिया सारी |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *